सफेद वर्दी ही क्यों पहनावे में इस्तमाल करते हैं नेवी के जवान ?

0
83
नॉलेज

 

सफेद वर्दी ही क्यों पहनावे में इस्तमाल करते हैं नेवी के जवान ? इस मुद्दे पर अगर हम सोचे की आखिर सफेद रंग ही क्यों इस्तमाल करते हैं नेवी के जवान तो सायद हम भी एक पल के लिए सोचने लगेंगे की ऐसा क्यों हैं और जब भी हम किसी विषय पर सोचते हैं तो उस विषय पर प्रश्न उत्पन्न होना भी लाजमी हैं और उसी प्रश्न के उत्तर हम बताएंगे आपको तो आइये जानते हैं क्या हैं इस रंग के पीछे की कहानी…?

क्या कहता हैं सफेद रंग…?

जैसा की हम सभी अपने बच्चपन से पढ़ते आ रहे है की सफेद रंग शांति का प्रतीक । यह रंग हमे शांति का सन्देश देता है । यह रंग हमे ये बताता हैं की जीवन के किसी भी असमान्य परिस्थिति में हमे किस प्रकार शांति से उसका सामना करना चाहिए , तथा अपना धैर्य नही खोना चाहिए । इसी संदेश से प्रेरित होकर किया गया हैं इस रंग का चुनाव ।

 पहनावे में कितना आरामदेह हैं ये सफेद रंग ?

जैसा की यह सफेद रंग शांति का प्रतीक है । ठिक उसी प्रकार जब कोई व्यक्ति भी इस रंग के वस्त्र को धारण करता हैं , तो उस व्यक्ति के अंदर तथा उसके मन मस्तिस्क पे भी उसका असर होता हैं , इसके अलावा यह भी एक खास कारण हैं की यह पहनने में कफि हल्का रंग माना जाता है । यह रंग आपको गर्मी के मौसम में काफी हल्का महसूस कराता हैं , और साथ ही साथ आपको ठण्डि ताजगी देता हैं । जिससे आप हमेशा स्वस्थ महसूस कर सकते है ।

देखने में कैसा प्रतीत होता है सफेद रंग ?

दोस्तो शांति किस व्यक्ति को प्रिय नही है । हर व्यक्ति अपने जीवन को खुशी तथा शांति से बिताना चाहता है । तथा यही कारण है , की यह देखने में भी उतना ही अच्छा लगता है , जितना कोई व्यक्ति इसे धारण कर के महसूस करता है ।

 किस किस परिस्थिति में सहायक हैं यह सफेद रंग ?

आप सभी से यह बात बिल्कुल परे नही है की यह सफेद रंग शांति के साथ साथ रौशनी फैलाने में भी सहायक है । प्रन्तु अंधकार हो या कम रौशनी यह सफेद रंग अपने रंग के सहायता से हर जगह उजियारा फैला देता है । दोस्तो , यहा अंधकार से हमारा कहने का मतलब है “बिजली” जि हा दोस्तो , जैसा की हम सब जानते है , की बिजली की समस्या हर स्थान पे होती है और जहाज भी इस समस्या से कुछ परे नही है । वाहा भी जवानों को इस समस्या से जूझना ही परता है । और उसी समस्या को समाधान करती हैं यह सफेद रंग की वर्दी ।

  •  सात समुंदरों के एकीकरण का है यह प्रतीक यह बात तो हम सब जानते है की सफेद रंग सतरँगी रंग में नही आता हैं । तथा यह वाक्य भी सच है की इन्ही सातो रंग के मिश्रण से बना है यह सफेद रंग , और सफेद वर्दी सातो समुन्द्र के एकीकरण को ही प्रतीत करता है ।
  •  कितना स्वछ है यह रंग ? किसी भी व्यक्ति के लिए स्वच्छता पहली प्राथमिकता होनी चाहिए , क्योंकि कोई भी व्यक्ति तब ही स्वस्थ रह पायेगा जब वह स्वच्छ रहेगा , तथा इन्ही चीजो को ध्यान में रखते हुए जहाज में भी पहली प्राथमिकता स्वच्छता को ही दिया गया है । जब भी हम सफेद रंग के वस्त्र को धारण करते है , तो सबसे पहले हम यही सोचते है , की कही ये गन्दा ना हो जाये और हम उसे ज्यादा से ज्यादा देर तक स्वच्छ रखने की पूरी कोसिस करते है । यही कारण है की जवानों को सफेद वर्दी सौपी गयी है । जिससे वह उसे स्वच्छ रखे तथा स्वय भी स्वस्थ रहे ।
  •  वस्त्र की पहली रंग थी “सफेद” जि हा दोस्तो , हम अगर इतिहास के पन्ने पलट कर देखे , तो हमे यह मलूम होगा की सफेद एक ऐसी पहली रंग है जो की वस्त्रो के इस्तेमाल में लायी गयी थी । हम अगर पुराने समय की बात करे तो कपास के वस्त्र काफी भारी मात्रा में लोगों के इस्तेमाल में थी । ज्यादा से ज्यादा लोग कपास के वस्त्र का ही इस्तेमाल करना पसन्द करते थे । साथ ही हमे ये भी मालूम है की नेवी एक सबसे पुराने पेशे में से एक है । इसलिए नाविको के द्वारा सफेद रंग की वर्दी पहनी जाती हैं । सफेद रंग को किसी अन्य रंग में रँगने की प्रक्रिया काफी दिनों बाद शुरू की गयी थी ।

 

  •  क्या है इसकी कीमत ? पुराने समय की बात की जाये तो हमे यह पता चलगे की यह काफी सस्ती हुआ करती थी । रंगीन वस्त्रो के मुकाबले सफेद रंग की वस्त्र काफी कम कीमतों में उपलब्ध हुआ करती थी ।

 

  • सफेद रंग की रिवज भारत एक रीति रिवाजो का देश है । जिसे हम सभी भारतवासी बखूबी मानते है , और आगे

भी मांते रहेंगे । ठिक उसी प्रकार नेवी में सफेद वर्दी पहहने की रिवाज काफी समय पहले से चली आ रही है , और आगे भी ऐसे ही चलती रहेगी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here